Monday, 6 April 2020

स्टोरीटेलिंग में भी बना सकते हैं आप करियर


कहानी सुनाना कोई प्रक्रिया, तरीका या तकनीक नहीं है। कहानी कहने को एक कला के रूप में वर्णित किया जाता है ... कहानी कहने की "कला"। कला की तरह - इसके लिए रचनात्मकता, दृष्टि, कौशल और अभ्यास की आवश्यकता होती है। कहानी सुनाना कुछ ऐसा नहीं है जिसे आप एक कोर्स के बाद एक बार में समझ सकते हैं। यह महारत की एक परीक्षण-और-त्रुटि प्रक्रिया है। लोग यह भी कहते थे कि 'प्रैक्टिस एक आदमी को संपूर्ण बनाती है'। कहानी सुनाना अभ्यास का ही एक खेल है।

जब भी कोई 'स्टोरीटेलिंग' शब्द सुनता है तो यह बहुत भारी भरकम शब्द लगता है, है ना? यह सही है, क्योंकि कहानी कहने के लिए सबसे सफल विपणन रणनीतियों और विपणन विचारों का एक महत्वपूर्ण घटक बन गया है। यह सरल व्यवसायों और एक समय के वफादार उपभोक्ताओं, स्टॉप-इन शॉपर्स से अलग-अलग ब्रांड सेट करता है। इस ब्लॉग में, हम उस कौशल का अध्ययन करेंगे जिसकी स्टोरीटेलिंग में करियर बनाने के लिए आवश्यकता है।


कहानी कहने का कौशल:
इस दुनिया में हर कला को कुछ कौशल की आवश्यकता होती है जिसके माध्यम से वे उस विशेष चीज का अभ्यास करते हैं। तो चलिए कौशल पर एक नजर डालते हैं एक कहानीकार के पास होना चाहिए:

·         ब्रेविटी
·         ऑब्जरवेशन
·         नॉलेज `
·         मार्किट इंटेलिजेंस
·         कम्युनिकेशन स्किल्स
...इत्यादि

 एक अच्छी कहानी में क्या-क्या होना चाहिए?
·         ह्यूमर
·         सस्पेंस
·         एवोकेशन
·         एम्पथी
·         टाइमिंग
..इत्यादि

सबसे पहले, आपको किसी भी सर्वश्रेष्ठ पत्रकारिता संस्थान (Best Mass Communication College) में प्रवेश लेना होगा। किसी के पास शुरू से ही ये कौशल नहीं होता है। यह उस कॉलेज की जिम्मेदारी है जिसमें आप अपने बोर्ड की परीक्षा के बाद अध्ययन करेंगे। कॉलेज सबसे अच्छा मास कम्युनिकेशन कॉलेज (Best Journalism institute) होना चाहिए ताकि वे आपको स्टोरीटेलिंग की मूल बातें सिखा सकें। कुछ सर्वश्रेष्ठ मास मीडिया संस्थान आपके अध्ययन के पूरा होने के बाद या आपके पाठ्यक्रम के अंतिम सेमेस्टर के दौरान भी इंटर्नशिप प्रदान करते हैं। इसलिए, अपने कॉलेज को चुनने के लिए यह एक महत्वपूर्ण कदम है। तो, आइए हम दिल्ली के कुछ सर्वश्रेष्ठ जन संचार संस्थानों (BestJournalism college in Delhi) पर नज़र डालते हैं

·         इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन, दिल्ली
·         माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता व संचार विश्वविद्यालय, नॉएडा
·         मास मीडिया रिसर्च सेंटर, जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
·         ईयान स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली (IAAN School Of Mass Communication)

मास कम्युनिकेशन में एडमिशन लेते समय, आपको सबसे अच्छा मीडिया कॉलेज (Best Media College in Delhi) चुनना होगा ताकि आपकी डिग्री योग्य हो। प्रवेश के लिए दिल्ली या भारत के शीर्ष मीडिया कॉलेजों (Best Mass Communication institute of Delhi) की खोज करते समय IAAN स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन भी आपकी पसंद हो सकता है।


Afzaal Ashraf Kamaal

Friday, 3 April 2020

'The Art of Storytelling', A career option that has a big scope in the future.


Storytelling is not a process, method, or technique. Storytelling is described as an art … the “art” of storytelling. Like art — it requires creativity, vision, skill, and practice. Storytelling isn’t something you can grasp in one sitting, after one course. It’s a trial-and-error process of mastery. People also used to say that 'Practice makes a man perfect'. Storytelling is just a game of Practice, Practice, and Practice.

Whenever someone hears the term 'storytelling' it sounds like a lot of work, right? It is, and right because storytelling has become a crucial component of the most successful marketing strategies and Marketing Ideas. It sets apart vibrant brands from simple businesses and loyal consumers from one-time, stop-in shoppers. In this blog, we will be studying the skill one needs if he/she wants to make his/her career in storytelling.



Skills of Storytelling:
Every art in this world needs some skills through which they Practice that particular thing. So let's have a look at skills a storyteller must have:

·         Brevity
·         Observation
·         Knowledge
·         Market Intelligence
·         Communication Skill ..etc

What a story should must have:
·         Humor
·         Suspense
·         Evocation
·         Empathy
·         Timing ..etc.,

How to start?
First of All, you will have to take admission in any of the best mass media institutes.College must be the topbest mass media institutes so that they will be able to teach you the basics of storytelling. Some best media college in Delhi also provide internships just after the completion of your study or during the last semester of your course. So, it is a very important step to choose your college. So, let us have a look at some mass communication institutes in Delhi:-

1.       Indian Institute of Mass Communication (IIMC)
2.       AJK Mass Communication research center (JMI)
3.       Makhanlal Chaturvedi Rashtriya Patrakarita Vishwavidyalaya.
4.       IAAN School of Mass Communication (IAAN)

While seeking for admission in mass communication, you must choose the best media college so that your degree will be worthy. IAAN School of Mass Communication could also be your choice while searching for government approved media college for admission.

All The Best,

Afzaal Ashraf Kamaal

Thursday, 2 April 2020

खोजी पत्रकारिता भी हो सकता है करियर विकल्प



मास कम्युनिकेशन के छात्रों के पास अपने करियर में चुनने के लिए बहुत सारे विकल्प हैं। वे किसी भी बीट में अपना करियर बना सकते हैं जिसमें वे रुचि रखते हैं। चाहे वह फैशन जर्नलिज्म हो, स्पोर्ट्स जर्नलिज्म, पॉलिटिकल जर्नलिज्म या कुछ और, हर विकल्प एक मीडिया स्टूडेंट के लिए खुला है, अगर वह भारत के सबसे अच्छे मीडिया कॉलेज में से मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई कर रहा है। आज, हम Investigative Journalism के बारे में अध्ययन करेंगे। इस ब्लॉग में, हम इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म और इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म के पहलुओं पर चर्चा करेंगे। और अंत में, आपको दिल्ली या भारत के प्रीमियर इंस्टिट्यूट के बारे में भी पता चल जाएगा 



खोजी पत्रकारिता को उस पत्रकारिता के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसमें पत्रकार उन तथ्यों पर भरोसा नहीं करते जो उन्हें दिख रहा होता है। वे सिक्के के दूसरे पहलू को भी जानने की कोशिश करते हैं। एक खोजी पत्रकार के स्वभाव में आत्मविश्वास और निडरता होनी चाहिए। उनका काम थोड़ा जोखिम भरा है और उन्हें तथ्यों के लिए खोज करते समय कई बार जान भी जोखिम में डालना पड़ जाता है।

पनामा पेपर्स, ऑफशोर लीक्स, पैराडाइज पेपर्स इत्यादि, खोजी पत्रकारिता के परिणाम के कुछ उदाहरण हैं। हम सभी जानते हैं कि ये पेपर देश के लिए कितने महत्वपूर्ण थे। खोजी पत्रकारों के लिए अंतर्राष्ट्रीय कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (ICIJ) एक स्वतंत्र संगठन है। इसमें 70 से अधिक देशों में 200 से अधिक खोजी पत्रकारों और 100 मीडिया संगठनों का एक अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क शामिल है। इंडियन एक्सप्रेस ICIJ में भारत का प्रतिनिधित्व करता है

भारत में, प्रत्येक मीडिया संगठन एक खोजी पत्रकार को काम पर नहीं रखता है या हम कह सकते हैं कि प्रत्येक संगठन खोजी पत्रकारिता के क्षेत्र में काम नहीं करता है। इंवेस्टिगेटिव जर्नलिज्म के क्षेत्र में द इंडियन एक्सप्रेस और द हिंदू बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। यदि वे इस क्षेत्र में काम कर रहे हैं तो यह भी स्पष्ट है कि वे कुछ अच्छे और उत्साही पत्रकारों को काम पर भी रखते होंगे।

एक खोजी पत्रकार किसी भी संगठन पर निर्भर नहीं है और वे किसी भी विषय की जांच अपने बल पर कर सकते हैं। लेकिन इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म में करियर बनाने के लिए, दिल्ली के टॉप 10  मीडिया इंस्टीट्यूट से बुनियादी चीज एक कोर्स (Journalism coursein Delhi), डिग्री या डिप्लोमा का होना है। मास कम्युनिकेशन में प्रवेश के लिए मांग करते समय, आपको सरकार द्वारा अनुमोदित मीडिया कॉलेज (governmentapproved media college) चुनना होगा ताकि आपकी डिग्री योग्य हो। दिल्ली या भारत के शीर्ष मीडिया कॉलेजों (Media journalism institute) में प्रवेश की मांग करते हुए IAAN स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन भी आपकी पसंद हो सकता है।

घर रहें, सुरक्षित रहें

अफ़ज़ाल अशरफ कमाल

Wednesday, 1 April 2020

Wanna make your career in writing? This is the way?



A writer is a mirror of society. The author has always been telling society its truth. Right from the tears of poor to political leaders communalism; the writer talks about everything. In any case, the writer has been pouring cold water in the heat of society with his writing. The author does not just hurt these evils but also talks about love. Whether there is a shirt button stuck in Mehbooba's cloak or a drop of tears falling in the mother's lap; The author has narrated every scene at different times through his words.
Today in this blog we will talk about what skills a writer should have. At the end of this blog, we will also see what you should keep in mind while taking admission in any mass communication college in the country.


What skills a writer should have: -

·         The art of viewing the event from a different perspective
·         Creative View
·         Seating restraint with pen-paper or keyboard
·         Emotion
·         Fond of reading

First of all, you have to get admission in any best journalism college in Delhi. No one has these skills right from the beginning. It is the responsibility of the college in which you will study. The college should be the best mass communication college so that they can teach you the basics of writing. Some of the best mass media institutes offer internships after the completion of your studies or even during the last semester of your course. Therefore, it is an important step to choose your college. So, let us take a look at some of the best media college in Delhi.

1. Indian Institute of Mass Communication (IIMC)
2. AJK Mass Communication research center (JMI)
3. Makhanlal Chaturvedi Rashtriya Patrakarita Vishwavidyalaya.
4. IAAN School of Mass Communication (IAAN)

While taking admission in Mass Communication, you have to choose the best media college so that your degree is eligible. IAAN School of Mass Communication may also be your choice when searching for top media colleges in Delhi or India for admission.

Stay Home, Stay Safe

Afzaal Ashraf Kamaal

Tuesday, 31 March 2020

लेखन के क्षेत्र में करियर बनाना है? कब, क्या और कैसे करें?


एक लेखक समाज का आइना होता है। लेखक हमेशा से समाज को उसकी सच्चाई-रू-ब-रू कराता रहा है। गरीब की भूख हो, महंगाई की मार हो, नेताओं का अत्याचार हो, दंगों का कोहराम हो; कुछ भी हो लेखक अपनी लेखनी से समाज की इस गर्मी में ठन्डे पानी बौछार करता रहा है। लेखक सिर्फ इन कुरीतियों पर चोट ही नहीं करता बल्कि प्यार की बातें भी करता है। महबूबा की ओढ़नी में फंसा हुआ शर्ट का बटन हो या फिर माँ के आँचल में कभी गिरी हुई कोई आंसू की बूँद हो; लेखक ने अलग-अलग वक़्त पर हर दृश्यों को अपने शब्दों के माध्यम से खूब बयान किया है।


आज इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि एक लेखक के पास कौन-कौन से स्किल्स होने चाहिए। इस ब्लॉग के अंत में हम ये भी देखेंगे कि आपको देश के किसी भी मास कम्युनिकेशन कॉलेज में एडमिशन लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

एक लेखक के पास क्या कौशल होने चाहिए:-
v    घटना को अलग नज़रिये से देखने की कला 
v    क्रिएटिव नजरिया
v     पेन-पेपर या कीबोर्ड के साथ कुछ देर बैठने का संयम
v     इमोशन
v     पढ़ने का शौक़



सबसे पहले, आपको किसी भी सर्वश्रेष्ठ संस्थान (Best journalism College in Delhi) में प्रवेश लेना होगा। किसी के पास शुरू से ही ये कौशल नहीं होता है। यह उस कॉलेज की जिम्मेदारी है जिसमें आप अध्ययन करेंगे। कॉलेज सबसे अच्छा मास कम्युनिकेशन कॉलेज (mediacollege in Delhi) होना चाहिए ताकि वे आपको लेखन की मूल बातें सिखा सकें। कुछ सर्वश्रेष्ठ मास मीडिया संस्थान (Mass Communication Institutes in Delhi) आपके अध्ययन के पूरा होने के बाद या आपके पाठ्यक्रम के अंतिम सेमेस्टर के दौरान भी इंटर्नशिप प्रदान करते हैं। इसलिए, अपने कॉलेज को चुनने के लिए यह एक महत्वपूर्ण कदम है। तो, आइए हम दिल्ली के कुछ सर्वश्रेष्ठ जन संचार संस्थानों (Best media college in Delhi) पर नज़र डालते हैं

·      इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन, दिल्ली
·      माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता व संचार विश्वविद्यालय, नॉएडा
·      मास मीडिया रिसर्च सेंटर, जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
·      ईयान स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली (IAAN School Of Mass Communication)

मास कम्युनिकेशन में एडमिशन लेते समय, आपको सबसे अच्छा मीडिया कॉलेज चुनना होगा ताकि आपकी डिग्री योग्य हो। प्रवेश के लिए दिल्ली या भारत के शीर्ष मीडिया कॉलेजों की खोज करते समय IAAN स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन भी आपकी पसंद हो सकता है।

घर रहें, सुरक्षित रहें

अफ़ज़ाल अशरफ कमाल

Monday, 30 March 2020

Just think about your Career


The growing outbreak of coronavirus has imprisoned the entire world in their homes. Indian Prime Minister Narendra Modi has also asked Indian people to draw Laxman Rekha ahead of their houses so that you can't cross the border of your homes. So you people are in your homes during lockdown; If you are in homes, then you have spare time; Surplus time means you have nothing to do; So today in this blog we are going to tell you that these days how can you think about your career easily. In a previous blog, we told you how you can use your time well, and today in this blog we will show how to think about career.


Which field you are going to pursue?
First of all, you have to decide in which area you want to go. Be it engineering, medical or journalism; There are many opportunities for you in every field. Since we talk about journalism in particular, in this blog also we will talk about journalists.

Field of journalism
If you want to go into the field of journalism, then start your mission. The most basic thing to go in this field is writing and reading. Practice writing at least 500 words daily. People used to say that 'Practice makes a man perfect'. So keep practicing, practice is very important.  You should keep in mind these things while preparing yourself for the journalism.


Start Reading Newspaper Daily

Read Some interesting books

Keep Writing

Watch Movies: It helps you to think in different perspective.
...etc.

Now the main thing, admission. For this, you have to take admission in the best media institute of the country. He goes on to earn a degree or diploma from any  Top best media college in Delhi as well as become a journalist. Best media college or bestjournalism college helps the students to develop journalistic approach in their mind.


Stay Home, Stay Safe

Thank you

Afzaal Ashraf Kamaal

Friday, 27 March 2020

लॉकडाउन के समय खुद पर भी दे सकते हैं ध्यान, करियर के बारे में भी सोचिये।


कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप ने पूरी दुनिया को  अपने घरों में कैद कर दिया है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने घर के आगे लक्ष्मण रेखा रेखा आगे लक्ष्मण रेखा खींच लेने को कहा है। तो आप लोग लॉकडाउन के दौरान आप अपने घरों में हैं; घरों में है तो आपके पास फालतू समय है; फालतू समय है मतलब आपके पास करने को कुछ भी नहीं है; तो आज इस ब्लॉग में हम आपको बताने जा रहे हैं कि इन दिनों आप अपने करियर को लेकर कैसे सजग सहज रूप से सोच सकते हैं। पिछले ब्लॉग में हमने बताया था कि आप अपने समय का सदुपयोग कैसे कर सकते हैं, और आज इस ब्लॉग में हम ये बताएंगे कि कैरियर के बारे में कैसे सोच सकते हैं।


किस क्षेत्र में जाना है?
सबसे पहले आपको ये निर्णय लेना होगा कि आप किस क्षेत्र में जाना चाहते हैं। चाहे इंजिनीयरिंग हो, मेडिकल या फिर पत्रकारिता; हर क्षेत्र में आपके लिए तमाम अवसर हैं। हम चूंकि खासतौर पर पत्रकारिता की बात करते हैं तो इस ब्लॉग में भी हम पत्रकारों की ही बात करेंगे।

पत्रकारिता का क्षेत्र
अगर आप पत्रकारिता के क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो आप अभी से अपने मिशन में लग जाइये। इस क्षेत्र में जाने के लिए सबसे बेसिक चीज़ लिखना और पढ़ना है। रोज़ाना कम से कम 500 शब्द लिखने की प्रैक्टिस करें। वो कहते हैं ना कि 'करत-करत अभ्यास से जड़मति होत सुजान' तो अभ्यास करते रहिए, अभ्यास बहुत ज़रूरी है।
 
साथ ही साथ आपको करंट अफेयर्स पर भी पैनी नज़र रखनी होगी।

किताबें पढ़िए।
अब खास बात, एडमिशन। इसके लिये आपको देश के बेहतरीन मीडिया संस्थान (Best Media Institute)  में एडमिशन लेने होगा। देश या दिल्ली के किसी भी मीडिया संस्थान (Top best mediacollege in Delhi) से डिग्री या डिप्लोमा लेने के साथ ही साथ एक पत्रकार बनने की ओर अग्रसर हो जाते हैं। 

धन्यवाद
अफ़ज़ाल अशरफ कमाल